भाकियू भानु ने प्रधानमंत्री को ज्ञापन प्रेषित कर किसानों की समस्याएं दूर करने की मांग की

दीपक मिश्रा


किसानों की समस्याएं दूर करने के लिए गठित हो किसान आयोग-ठाकुर भानु प्रताप सिंह
हरिद्वार, 15 जून। अलकनंदा मैदान पर आयोजित भारतीय किसान यूनियन भानु के तीन दिवसीय अधिवेशन के अंतिम दिन यूपी, उत्तराखण्ड सहित कई राज्यों से आए किसानों ने संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह के नेतृत्व में प्रधानमंत्री, उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री व जिलाधिकारी हरिद्वार को ज्ञापन प्रेषित कर किसानों की समस्याएं दूर करने की मांग की। सिटी मजिस्ट्रेट ने अधिवेशन स्थल पर पहुंचकर किसान संगठन के प्रतिनिधियों से ज्ञापन लिया।
अधिवेशन में भाग लेने आए किसानों को संबोधित करते हुए भाकियू भानु के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने कहा कि किसान देश की रीढ़ हैं। लेकिन देश में अब तक गठित सभी सरकारों ने किसानों हितों की अवेहलना की है। सरकारों की अनदेखी के चलते किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है। ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने कहा कि स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करते हुए किसान आयोग का गठन किया जाए। आयोग में अध्यक्ष सहित पदों पर किसानों को ही नियुक्त किया जाए। फसलों का उचित दाम मिल सके। इसके लिए एमएसपी पर गारंटी कानून लागू किया जाए। 60 वर्ष की आयु पूरी कर चुके सभी किसानों को 10हजार रूपए मासिक पेंशन दी जाए। सभी किसानों को दुघर्टना बीमा व फसल बीमा योजना का लाभ दिया जाए। उन्होंने कहा कि किसान अब जागरूक हो चुका है और अपनी समस्याओं के लिस संघर्ष करने को तैयार है।
उत्तराखण्ड प्रदेश अध्यक्ष अविनाश कुमार चैहान ने कहा कि उत्तराखण्ड के किसानों का कर्ज माफ किया जाए व कम ब्याज पर सरल प्रक्रिया के तहत कर्ज उपलब्ध कराया जाए। ट्यूबवेल के बिजली माफ किए जाएं व कृषि कार्यो के लिए निःशुल्क बिजली दी जाए। हल्द्वानी में खेतों के ऊपर से गुजर रही बिजली लाईनों की वजह से किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। इसलिए बिजली लाईनों को भूमिगत किया जाए। डमूमा डूंगा बन्दों की बस्ती को मालिकाना हक दिया जाए। किसान परिवारों के बेरोजगार युवाओं को रोजगार दिया जाए।
हरिद्वार जिला अध्यक्ष इखलाख खान ने कहा कि पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध नहीं होने के कारण किसानों को कृषि कार्य में भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।

पर्याप्त मात्रा में खाद की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। बाढ़ प्रभावित इलाकों में फसल बीमा का भुगतान फसलों की लागत के अनुरूप किया जाए। जनपद के किसानों का गन्ना मिलों पर बकाया भुगतान शीघ्र दिलाया जाए और गन्ना मिल परिसरों में किसानों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएं। अधिवेशन को राष्ट्रीय महासचिव रामेश्वर प्रसाद, यूपी प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर योगेश प्रताप सिंह, नितिन चैघरी नीलू, परविंदर चौधरी, समीर, कुर्बान अली, सुधांशु चैधरी, आरिफ खान, माया कश्यप, नाथी चौधरी, मुकेश चौधरी, मुनेश चौधरी, मुकेश चौधरी, चौधरी गजब सिंह, चौधरी पहल सिंह आदि पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.